Tadap Teaser Review In Hindi


 बॉलीवुड में जब भी कॉन्ट्रोवर्सी की बात होगी एक नाम ऑटोमैटिक दिमाग में फौरन प्रकट हो जाएगा। कबीर सिंह एक ऐसी फिफ्टी परसेंट लोगों के लिए कम बैस्ट है तो बाकी फिफ्टी के दम बेस्ड। एक बार फिर से कुछ वैसा ही माहौल बनाने के लिए एक नया नाम मार्केट में आ गया है जिसकी ओरिजनल संग रिश्ते में कबीर सिंग की भी बाप लगती है तड़प डिस्‍को प्रेजेंट किया गया है दम कटर आर पार वाली लव स्टोरी की तरह वो पहाड़ से सिंपल सी दिखती है अंदर से उतनी ही टेढ़ी मेढ़ी डरावनी है ये लोग लाल रंग से लिखा गया है कि अंबाला मारपीट होगी दम एक्स्ट्रीम लेवेल की जिसका सैंपल आपको ट्रेलर में दिख गया होगा। कहानी में पॉलिटिक्स का तड़का अलग से लगाया जाएगा जिसकी वजह से प्लानिंग प्लॉटिंग काफी सारे दिखाई देंगे। कहानी का थीम होने वाला है लव लेटर प्यार का मुकाबला नफरत से होगा एक चीज ट्रेलर को देखने के बाद हंड्रेड परसेंट पक्की है बट सुनाने के बाद बवाल होनेवाला है भैया कॉन्ट्रोवर्सी की बरसात होगी वो भी बेदाग़ शर्म लिहाज पहले लोग बोले कि प्यार का मतलब स्मोकिंग नहीं होता। मर्द वर्सेस औरत का मुद्दा उठाया जाएगा। लड़का लड़की के पीछे हाथ धोकर कोई कोई जबरदस्ती या प्यार करने की बेचारी लड़की सामने का झंडा खूब लगाया जाएगा। इट्स हार्ट चॉइस दूसरे पार्ट टू बॉलीवुड दोनों के साथ एकदम फ्री मिलता है उसपर सवाल उठाए जाएंगे। सुनील शेट्टी का बेटा है तो हीरो बना दिया। कपूर खानदान की बहूरानी लेकिन मैं अगर अपना ओपिनियन बताऊं तो अहान शेट्टी कम से कम ट्रेलर में तो एक्टिंग कर रहे हैं। आहार का फोकस डायलॉग्स पर है डायलॉगबाजी नहीं अंग्रेजी फिल्म का बेस्ट पार्ट बनने का खतरनाक। स्मार्ट लुक या फिर एक्शन में आंखों


में दिखने वाली आप सब कुछ टू द पॉइंट है। दोनों चीजें तो उनको मैच कर रही हैं। लड़का लंबी रेस का घोड़ा साबित होगा। देख लेना बट पारस। आंखों को जितना सुकून देते हैं उतना सैटिस्फैक्शन कानों को नहीं मिला। एक्चुअली डायलॉग्स में जो दम होना चाहिए वो मिसिंग है कुछ भी इम्पैक्ट नहीं पड़ा उनका ट्रेलर में ओरिजिनल बॉलिवुड ऐक्ट्रेस दीवा को सुपरहिट बनाने में 138 साबित हुई। बंटी के जोश इमोशंस ने पब्लिक को फैन बना दिया था। पारा उस लेवल को एक भी मैच नहीं कर पाई है। वैसे बॉटम की ये भी है बैट्समैन बना को डरकर कौन है वंस अपॉन ए टाइम इन मुंबई देखी है क्या बवाल गिरा बस उसी के ढर्रे पर मिला। वहीं इस तड़के के जिम्मेदार है। अब बारी कॉन्ट्रोवर्सी की दो घूमने वाली धाराओं रेशनल वर्सेस बीमे का कॉम्पिटिशन और एक तड़प दोनों के बीच में कंपैरिजन होना बहुत नॉर्मल सी बात है। कभी सिंगल तो लोगों ने अर्जुन को इतनी जोर देना शुरू कर दिया था जितनी शायद उसकी रिलीज़ के वक्त भी नहीं मिली होगी। बेबो आरेख बढ़ा कर क्लासिक यंग ऑडियंस बहुत ज्यादा कनेक्ट करती है। फिल्ममेकिंग के नियम कायदे रूल्स वगैरह सब कुछ तोड़ दिए थे। अब उस आप को मैनेज कर पाना सबसे बड़ा चैलेंज होगा। ट्रेलर अच्छा है और मजेदार भी है कहानी मिलेगी प्लस ऐक्टिंग भी बढ़िया हो रही है लेकिन सब सबकुछ फोटोकॉपी है। ओरिजिनल लगे ये दिल दिमाग को भूला नहीं देंगे। आर्ट के फैन हैं एक चीज जिसमें आलिया को बराबर की टक्कर दे सकती है वो है उनका म्यूजिक ट्रेलर में जो अरिजीत सिंह के कमबैक की छोटी सी झलक मिली है। बस उतना ही काफी है गानों को स्वर पहुंचाने


के लिए तड़प का म्यूजिक होने वाला है। एक्स्ट्रीम लेवल का काफी कच्ची बॉलीवुड ऐल्बम सुनने को मिलेगी जैसा कबीर सिंह के साथ भी हुआ था। गाना सुपरहिट बस वही गाना तड़प के साथ भी होगा। बस म्यूज़िक से आधार फिल्म का जो बिजी है वह बैकग्राउंड म्यूजिक या चोरी का है। कुछ समझदार लोग पहले पकड़ में तैनात क्रिस्टोफर नोलन की दिमाग वाली बस उसी की कॉपी पेस्ट मार दिया है। रेलवे म्यूजियम में भरोसा नहीं है तो सुनकर एकला चलो फटाफट कौन के बतौर यू ट्यूब पर आए एक दम फ्री हिंदी डबिंग में अवेलेबल है उसको आजकल देखने वाले हो या फिर तड़प के लिए दिसंबर तक इंतजार करोगे थियेटर्स में इसका मजा उठाओगे। आपका फैसला क्या है पब्लिक ओपिनियन बताऊं।


Previous Post Next Post